हकीकत………….

खुली फिज़ा में पर तोलने से डरने लगे
ये क्या हुआ की जुबाँ खोलने से डरने लगे !
कुछ ऐसा झूठ का जादू चला है अब के बरस 
हम अपने घर में ही सच बोलने से डरने लगे !!!!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.